featured image

रायपुर/06/09/2017/ दिल्ली प्रवास पर गए हुए छत्तीसगढ़ प्रदेश के कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने आज केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह से मुलाकात की । इस मुलाकात के दौरान राज्य की खेती किसानी से संबंधित विभिन्न विषयों पर उन्होंने चर्चा के साथ ही कम वर्षा की वजह से राज्य में ज्यादातर क्षेत्रों में अकाल की छाया पड़ने के संबंध में भी उन्हें जानकारी देते हुए 
हालातों पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य के हित में विभिन्न मांगों को उनके सामने रखा और इन मांगों को शीघ्र पूर्ण करने का आग्रह किया है।
 
केंद्रीय कृषि मंत्री के समक्ष रखे प्रस्ताव के संबंध में बृजमोहन अग्रवाल ने बताया कि नेशनल हॉर्टिकल्चर मिशन में राज्य के 19 जिलों को शामिल किया गया है। हमने शेष 8 जिलों को भी इस मिशन में शामिल करने का आग्रह किया है, ताकि राज्य के सभी किसानों को लाभ मिल सके। इसके अलावा उन्हें बताया गया कि छत्तीसगढ़ में कृषि मशीनरी प्रशिक्षण संस्थान के लिए स्थल का चयन किया जा चुका है। परंतु केंद्रीय कमेटी द्वारा निरीक्षण अभी लंबित है । यह निरीक्षण जल्द हो जाए तो राज्य का प्रशिक्षण संस्थान किसानों के लिए एक नई सौगात के रूप में जल्द ही तैयार हो सकेगा। उनसे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन योजना के अंतर्गत व्यवसायिक फसल गन्ना को भी शामिल करने का आग्रह किया है। तथा छत्तीसगढ़ के गन्ना उत्पादक किसानों को ज्यादा से ज्यादा लाभ दिया जा सके । श्री सिंह से राज्य के शेष सभी जिलों में भी कृषि विज्ञान केंद्र खोले जाने की मांग की है।  इसके साथ ही वर्ष 2015 की केंद्रीय डीजल अनुदान की अप्राप्त राशि 1.79 करोड़ तथा 2015 की फसल बीमा की अप्राप्त केंद्रीय अनुदान राशि 4 करोड़ रुपए राज्य को प्रदान कराये जाने की बात रखी है।
उन्होंने बताया कि कामधेनु विश्वविद्यालय के अंतर्गत बिलासपुर वेटनरी कॉलेज को शीघ्र ही वेटनरी काउन्सिल ऑफ इंडिया से मान्यता दिलाने का आग्रह किया है। इसके साथ ही राज्य में 595 मिट्टी परीक्षण केंद्र खोलने की मांग भी उनसे की है। 
 
कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने बताया कि केंद्रीय कृषि मंत्री से उनकी चर्चा सर्थक रही। लगभग सभी मांगो को उन्होंने गंभीरता से लिया हैं और मांगों को  जल्द ही पूर्ण करने की बात कही है।