featured image

रायपुर/19/08/2018/ प्रदेश के कृषि,सिंचाई एवं पशुपालन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने दुर्ग और बेमेतरा जिले के गौशालाओं में गायों की मौतों को गंभीरता से लेते हुए बड़ी कार्रवाई की है। उन्होंने दुर्ग और बेमेतरा जिले के दोनों उपसंचालक पशुपालन और लापरवाह 7 पशु चिकित्सकों सहित कुल 9 अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने सहित गौसेवा आयोग के सचिव को सोकाज़ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए है। गौरतलब है कि दुर्ग के धमधा विकासखंड के ग्राम राजपुर स्थित शगुन गौशाला, बेमेतरा जिले के साजा विकासखंड के ग्राम गोडमर्रा स्थित फूलचंद गौशाला, एवं साजा क्षेत्र के ही ग्राम रानों स्थित मयूरी गौशाला में बड़ी संख्या में गायों की मौते हुई थी। जिस मामले को गंभीरता से लेते हुए मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने संचालक पशुपालन छत्तीसगढ़ शासन डॉ एस.के पांडे को 19 अगस्त की सुबह तक रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए थे। आज सुबह रिपोर्ट आने के बाद यह पाया गया कि गौशाला में गंभीर अनिमितताये थी बावजूद जिम्मेदार अधिकारी लापरवाह बने रहे। परिणामतः गायों की मौत के रूप में बड़ी घटना सामने आयी। श्री अग्रवाल इन दिनों अध्यन यात्रा में इजराइल प्रवास पर है। वहा से ही वे इस पूरे मामले पर नज़र बनाये हुए थे। उन्होंने इस मामले पर पहले ही कह दिया था कि दोषियों पर कठोरतम कार्रवाई की जायेगी। आज सुबह रिपोर्ट आने के बाद तत्काल ही उन्होंने दुरभाष पर सचिव कृषि को दुर्ग जिले के उपसंचालक पशुपालन डॉ एमके चावला,बेमेतरा के उपसंचालक पशुपालन डॉ ए.के सिंह, धमधा क्षेत्र के वीएइस डॉ सत्यम मिश्रा, डॉ भारतेश शर्मा, एवीएफओ एलएस सोरी, साजा क्षेत्र वीएएस डॉ एमएन झा, डॉ पुष्पराज खटकर, एवीएफओ केके ध्रुव एवं एलडी चंद्राकार को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के निर्देश दिए है।