featured image

रायपुर/2/09/2017/ छत्तीसगढ़ प्रदेश के कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि हम अपने राज्य की जनता के हितों का ध्यान रखते हुए जल परियोजनाएं सहित अनेकों योजनाएं बनाते है। हमारी मंशा ऐसी कभी नही रही है कि हमारे कार्यों से उड़ीसा जैसे पड़ोसी राज्य प्रभावित हो और वहा की जनता को किसी भी प्रकार की तकलीफ झेलनी पड़े। पड़ोसी की पीड़ा को अपना समझकर उसे सहयोग करने की संस्कृति हमारी रही है। हम मानते है कि हर राज्य का नागरिक पहले भारतवासी है। अपनी इसी सोंच को लेकर आज हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एक भारत - श्रेष्ठ भारत बनाने जा रहे है।
 
बृजमोहन अग्रवाल ने यह बात महानदी पर छत्तीसगढ़ की तरफ बन रहे है बैराजों क्रमशः साराडीह, मिरौनी, बसंतपुर, समोदा व् शिवरीनारायण के निर्माण व् उपयोगिता पर उड़ीसा सरकार के रोक लगाए जाने की मांग को राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण(एनजीटी) द्वारा खारिज किये जाने पर दी हैं। उड़ीसा सरकार की मांग खारिज होने के बाद छत्तीसगढ़ की ओर महानदी पर बन रहे विभिन्न बैराजों के निर्माणकार्यों में तेजी आएगी।
उन्होंने कहा कि सत्य की जीत हुई है। आखिरकार एनजीटी ने प्रूफ कर दिया की उड़ीसा सरकार द्वारा लगाए गए आरोप पूर्णतः निराधार है। 
 
जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि उड़ीसा राज्य के हीराकुंड बांध तक महानदी का जल ग्रहण क्षेत्र 82432 वर्ग किलोमीटर है,जिसमें से 71424 वर्ग किलोमीटर छत्तीसगढ़ राज्य में से है जो की लगभग 86 प्रतिशत है। 86 प्रतिशत जल ग्रहण क्षेत्र छत्तीसगढ़ का होने के बाद भी छत्तीसगढ़ मात्र 25% जल का ही उपयोग कर रहा है।  
बृजमोहन ने कहा कि उड़ीसा सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ सरकार पर लगाए गए सारे आरोप राजनीति से प्रेरित थे। सच तो यह है कि उड़ीसा की सरकार ने अपने राज्य की जनता के लिए इस दिशा में कुछ काम ही नहीं किया। वह केवल हीराकुंड बांध के भरोसे ही चलते रहे। महानदी का पानी जो उड़ीसा होकर समुद्र में जाता है क्या उड़ीसा की बीजद सरकार उसका उपयोग करके अपने प्रदेश की जनता को पानी उपलब्ध नहीं करा सकती? यह सवाल उड़ीसा की जनता को अपनी सरकार से पूछना चाहिए।  उड़ीसा सरकार अपनी धरती पर पानी रोकने स्ट्रक्चर आदि बनाती है तो हमें कोई आपत्ति नहीं होगी बल्कि वो चाहे तो हम उन्हें सहयोग करेंगे। 
बीजद सरकार के मन में जनता की सेवा की भावना अगर है तो छत्तीसगढ़ से आने वाले पानी को सहेज कर वहां की खेती किसानी के कामों में सरकार लगाये ताकि अन्नदाता किसानों का भला हो। आज की परिस्थितियों में उड़ीसा की जनता भी सब समझ चुकी है। हाल ही में उड़ीसा में हुए पंचायत चुनाव में जनता ने भाजपा को आशीर्वाद दिया है।  ऐसे में हम कह सकते हैं कि उड़ीसा की जनता के दिलों दिमाग में अब भारतीय जनता पार्टी आ गई है। आगामी चुनाव में उड़ीसा का जनादेश निश्चित ही भारतीय जनता पार्टी को मिलेगा और वहां भागीरथी बनकर भाजपा विकास की गंगा बहायेगी।