जैविक खेती से ही देश का भविष्य सुरक्षित- बृजमोहन

रायपुर। हरियाणा के सूरजकुंड में आयोजित दूसरे एग्री लीडरशिप समिट को संबोधित करते हुए छत्तीसगढ़ के कृषि, सिंचाई, पशुपालन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि हमें अपनी माटी को सदैव उपजाऊ रखते हुए देश का भविष्य सुरक्षित रखना है तो हमे जैविक खेती की ओर बढ़ना होगा। आज दुनियां इसी दिशा में बढ़ रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र दी ने किसानों की आय दुगुनी करने के जो सूत्र दिए है उस पर हम सभी को अतिरिक्त प्रयास करने की आवश्यकता है। किसान गेहू-चावल के अलावा फल, सब्जी उत्पादन, पशुपालन, मछली-मुर्गी पालन आदि कर अपनी आय दुगुनी कर सकते है। 3 दिवसीय इस समिट का शुभारंभ केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने किया।इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री एस.एस. अहलुवालिया और हरियाणा के कृषि मंत्री ओ.पी. धनगड़ भी उपस्थित थे। श्री अग्रवाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ नया राज्य है इसका गठन हुए 17 वर्ष ही हुए है पर इतने कम समय में ही देश के अग्रणी राज्यों में शामिल हो गया है । यहा हम जैविक खेती पर ज्यादा जोर दे रहे है । उन्होंने बताया कि राज्य के 27 जिलों में हर जिले में एक ब्लाक को पूर्ण रूप से जैविक बनाने पर कार्य किया जा रहा है। इसके लिए जैविक खेती में रूचि लेने वाले किसानों को 20 हजार रूपये की सहायता राशि देने का निर्णय लिया गया है । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य बनाया है I इसके लिए युवाओं को कृषि के साथ जोड़ने के अलावा कृषि से जुड़ी नई तकनीकों को अपनाना होगा। बृजमोहन ने बताया कि छत्तीसगढ़ के बस्तर को जैविक कृषि क्षेत्र बनाने की पहल की जा रही है । इसके लिए किसानों को विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने कृषि में गौ मूत्र के उपयोग को बढ़ावा देने की भी बात कही । श्री अग्रवाल ने समारोह स्थल में लगे कृषि मेले का अवलोकन भी किया।

गौपालन की योजना को मिली सराहना
बृजमोहन अग्रवाल ने छत्तीसगढ़ में गौपालन के लिये 12 लाख रुपये 50 फीसदी सब्सिडी पर दिए जाने की योजना का जिक्र किया तो उन्हें खूब सराहना मिली। केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री एस. एस. अहलूवालिया ने सराहना करते हुए इसे किसानों के लिए बेहद उपयोगी और उनका भविष्य संवारने वाली योजना करार दिया। हरियाणा के कृषि मंत्री ओपी धनगढ़ ने भी छत्तीसगढ़ की सराहना की।उन्होंने रायपुर में हुए राष्ट्रीय कृषि मेले का जिक्र भी किया और छत्तीसगढ़ में हो रहे कृषि विकास की प्रशंसा की।