featured image

कृषि महाविद्यालय में सात दिवसीय योगाफेस्ट 2018 का शुभारंभ, प्रदेश के 8 विश्वविद्यालयों के 450 से अधिक प्रतिभागी शामिल

रायपुर दिनांक 15 जून 2018। कृषि-सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने आज कृषि महाविद्यालय रायपुर में सात दिवसीय योगाफेस्ट - 2018 का शुभारंभ करते हुए कहा कि योग हमारे तन, मन, मस्तिष्क और आत्मा को निरोग बनाता है। योग हमारे बुद्धि और चित्त को शान्त करता है और आत्मा को शुद्ध करता है। हमारे जीवन में योग के महत्व को देखते हुए युवाओं को अपनी दिनचर्या में योग को अवश्य स्थान देना चाहिए जिससे वे स्वस्थ और ऊर्जावान बन सकें। उन्होंने योग को संपूर्ण विश्व में प्रतिष्ठित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों की सराहना की। श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के अथक प्रयासों से दुनिया के 125 देशों में 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस सात दिवसीय योग प्रशिक्षण एवं चिंतन शिविर का आयोजन इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय और राष्ट्रीय सेवा योजना, उच्च शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में किया जा रहा है। कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅ. एस.के. पाटील ने की।


उन्होंने कहा कि योग युवाओं की ऊर्जा को सकारात्मक दिशा प्रदान करता है और उन्हें अपनी ऊर्जा को सही दिशा में उपयोग करने के लिए प्रेरित करता है। उन्होंने कहा कि देष और समाज को युवाओं  से परिवर्तन की अपेक्षा होती है क्योंकि युवा पीढ़ी ऊर्जा से लबरेज़ होती है।स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय भिलाई के कुलपति डाॅ. मुकेश कुमार वर्मा ने कहा कि योग भारत की प्रचीन एवं समृद्ध परंपरा का अटूट अंग है। ऋग्वेद में भी योग का उल्लेख मिलता है उन्होंने कहा कि योग से समभाव की स्थिति की प्राप्ति संभव है। उच्च शिक्षा विभाग के सचिव  सुरेद्र कुमार जायसवाल ने युवाओं से योग को अपने दैनिक जीवन में अपनाने और इसका प्रचार-प्रसार करने का आव्हान किया। इस योग प्रशिक्षण एवं चिंतन शिविर-योगाफेस्ट-2018 में छत्तीसगढ़ के आठ विष्वविद्यालयों में संचालित राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवक, राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी सहित 450 विद्यार्थी शामिल हुए है।