featured image

●प्रगति उच्चतर माध्यमिक विद्यालय डौंडी लोहारा के रजत जयंती समारोह को में शामिल हुए कृषि-सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल। 
रायपुर/23/12/2017/ प्रदेश के कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि मंदिर धर्मशालाओं के लिए आर्थिक सहयोग प्रदान करने के लिए लोगों के हाथ खुले रहते हैं। परंतु शिक्षा के मंदिर में सहयोग करने की बात हो तो उनके कदम पीछे होते दिखते है। जबकि देखा जाए तो  शिक्षा के मंदिरों में साक्षात भगवान तैयार किए जाते हैं। अच्छी शिक्षा ग्रहण कर निकलने वाला विद्यार्थी समाज को बेहतर दिशा में लेकर जाता है। आपके सहयोग से अगर समाज के कमजोर तबके के बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलेगी तो वह भी मुख्यधारा से जुड़कर आगे बढ़ सकेगा और उसके इस आगे बढ़ने में आप का भी योगदान निश्चित रुप से दिखाई देगा। उन्होंने कहा कि सद्कर्म ही भगवान की पूजा है। जिसका पुण्य हमे अवश्य ही मिलता है। बृजमोहन अग्रवाल ने यह बात प्रगति उच्चतर माध्यमिक विद्यालय डौंडी लोहारा के रजत जयंती समारोह को संबोधित करते हुए कही।
यह रजत जयंती समारोह 2 दिनों तक चलेगा जिसमें विद्यालय के पूर्व विद्यार्थी भी सहभागी होंगे जिनका सम्मेलन कल स्कूल परिसर में आयोजित होगा।
बृजमोहन ने कहा कि डौंडी जैसे सुदूर क्षेत्र में एक सेवाभावी निजी विद्यालय का 25 वर्ष पूर्ण कर लेना अपने आप में बड़ी बात है। उन्होंने पूर्व विद्यार्थियों से कहा कि जिस विद्यालय पर आप पढ़ कर आगे बढ़े हैं उसकी चिंता करना भी आपका फर्ज है। किसी तरह की कोई कमी यहा के शिक्षा कार्य में ना रहे इसके लिए सहयोग करने तत्पर रहना चाहिए।
इस अवसर पर स्कूल के स्मारिका का भी विमोचन किया गया साथ ही इस दिवस पर रक्तदान कर समाज को जागरूक बनाने बेहतर संदेश दिया गया। समिति के अध्यक्ष पूर्व विधायक लाल महेंद्र सिंह टेकाम, भाजयुमों महामंत्री संजू नारायण सिंह, प्रेम भंसाली,  देवेंद्र जायसवाल, बलराम गुप्ता,अमित चोपड़ा, दीपचंद भंसाली, राजेन्द्र पारख, फूलचंद डोसी, डी आर सोनी, राजेन्द्र देवांगन,पलाश गुप्ता,ललित सिंह आदि उपस्थित थे।
 
●स्कूल परिसर पर न हो अतिक्रमण●
अपने उद्बोधन में बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि लोग बड़ी हिम्मत के साथ स्कूल की जमीन पर कब्जा कर जाते हैं। उन्होंने कहा कि समाज के लोगों को ऐसे कब्जा धारियों के खिलाफ एकजुटता के साथ आगे आकर अपना विरोध दर्ज कराना चाहिए। शैक्षणिक स्थानों को सुरक्षित रखना हम सभी का कर्तव्य है।