featured image

●पीलिया के रोकथाम हेतु जरूरी कदम उठाए निगम - बृजमोहन
●कलेक्टर, निगम आयुक्त, पीएचई, स्वास्थ्य विभाग के अफसरों, समस्त जोन कमिश्नर हुए बैठक में शामिल।

रायपुर/02/04/2018| रायपुर शहर में पीलिया के बढ़ते प्रकोप को लेकर चिंतित छत्तीसगढ़ प्रदेश के कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने आज जिला प्रशासन, नगर निगम और लोक-स्वास्थ्य-यांत्रिकी विभाग(पीएचई) के अधिकारियों की आकस्मिक बैठक बुलाई। इस बैठक में उन्होंने स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता व वार्डों की सफाई व्यवस्था तत्काल दुरुस्त करने के निर्देश दिये।

बैठक में नाराजगी जताते हुए बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि शहर की पेयजल पाइप लाइन बदलने के लिए 100 करोड़ रुपए लंबे समय से सैंक्शन हो चुके है। परंतु नगर निगम शहर की पाइप लाइन पूर्णता बदल पाने में असफल रहा है। आज भी नालियों - सीवरेज लाइन के करीब से पेयजल की पाइप लाइन जा रही है। जिसे नगर निगम गंभीरता से नहीं ले रहा। उन्होंने निगम के सभी जोन कमिश्नर से कहा कि जहां कहीं भी नाली के ऊपर से पेयजल की आपूर्ति होती दिखाई दें तत्काल कनेक्शन बदलें।  साथ ही उन्होंने निगम के अफसरों से कहा कि पेयजल में क्लोरीन की मात्रा बढ़ाई जाए ताकि पानी स्वच्छ हो सके। 

बृजमोहन ने कहा कि 400 करोड़ों खर्च करके रायपुर शहर में पानी की बड़ी बड़ी टंकियां बनाई गई है। परंतु सभी वार्डों तक पूरी तरह से पानी पहुंचा सकने में नगर निगम असफल रहा है। इस दौरान सभी टंकियों में पूरा पानी भरने और पेयजल की वितरण व्यवस्था को दुरुस्त करने की बात उन्होंने बैठक में कही।

श्री अग्रवाल ने कहा कि जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान क्षेत्र की सफाई व्यवस्था और जनता की प्रतिक्रिया को देखा है। से वे सफाई से संतुष्ट नहीं हैं । कुछ क्षेत्रों में गंदगी सड़क तक फैल रही है। जिसकी शिकायतें भी लोगों ने की है। ऐसे में हम स्मार्ट सिटी के दिशा में कैसे आगे बढ़ सकेंगे । हमें चाहिए कि ज्यादा गंदगी वाले वार्डों में सफाई कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर तेज गति से स्वच्छता अभियान चलाया जाए और लोगों को सड़क पर गंदगी ना फेंकने के लिए जागरुक किया जाए। उन्होंने स्वस्थ विभाग के अफसरों से भी कहा कि पीलिया जैसी बीमारियों के रोकथाम हेतु दवाइयां अस्पताओं में उपलब्ध रहे कही भी कोई लापरवाही न हो यह सुनिश्चित कर ले। 

इस बैठक में कलेक्टर ओपी चौधरी, निगम उपायुक्त सौम्य चौरसिया, पीएचई के श्री अग्रवाल सहित शहर के समस्त जोन कमिश्नर मौजूद थे।