featured image

●सरस्वती शिक्षण संस्थान में मेधावी विद्यार्थियों का हुआ अलंकरण समारोह।
रायपुर/22/01/2018 बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि आज हमारा देश तेज गति से आगे बढ़ रहा है। पर विकास के इस अंधाधुंध दौड़ में हमारी संस्कृति और संस्कार पीछे छूटते प्रतीत होते है। ऐसे समय में सरस्वती शिक्षण संस्थान देश की ऐसी शिक्षण संस्था है जो अपने विद्यार्थी को श्रेष्ठ नागरिक बनाकर देश को सौंप रही है। उन्होंने यह बात सरस्वती शिक्षण संस्थान रोहिणीपुरम, रायपुर में आयोजित मेधावी छात्रों के राज्य स्तरीय अलंकरण समारोह के दौरान कही।
 
बृजमोहन ने प्रदेश भर से आये हुए 53 मेधावी विद्यार्थियों को सम्मानित करते हुए कहा कि आज बसंत पंचमी के पावन पर्व पर माता सरस्वती का पूजन करते हुए मेधावी विद्यार्थियों का हम सम्मान कर रहे हैं। ज्ञान की देवी माता सरस्वती की कृपा सदा ही इन मेधावी छात्रों पर बनी रहे और वह अपने परिवार, समाज व देश की सेवा का भाव मन में रखकर कार्य करते हुए उपलब्धियां प्राप्त करते रहे। उन्होंने कहा कि अध्यात्म, शिक्षा और ज्ञान तीनों मिलने के बाद कोई संपूर्णता को प्राप्त करता है। यह अच्छी बात है कि हमारे सरस्वती शिशु मंदिर भी इसी भाव से विद्यार्थी तैयार किये जा रहे है।
 
उन्होंने कहा कि राष्ट्र विरोधी तत्व अपना वजूद मिटते देख देश को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। वह नई पीढ़ी को बरगलाकर अपनी मातृभूमि के खिलाफ खड़ा करने का कुत्सित प्रयास कर रहे।  ऐसे समय में राष्ट्रभक्ति की अलख जगाने वाली संस्था के रूप में विद्याभारती व सम्बद्ध सरस्वती शिक्षण संस्थान जैसी देश भर की अन्य संस्थाएं राष्ट्रभक्तों को तैयार कर रही है। जहा के विद्यार्थी अपनी भारतीय परंपरा,संस्कृति और गौरवशाली इतिहास को हृदय में संजोकर  शिक्षा ग्रहण करने के पश्चात अपने-अपने क्षेत्र में कार्य करते हुए देश की सेवा कर रहे है।
 
बृजमोहन ने कहा कि हमें एक भारत श्रेष्ठ भारत बनाना है। हमे ऐसा भारत बनाना है जहा जाति-धर्म के नाम पर देश को बांटने की कोशिश न हो। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि माँ और मातृभूमि के कोई विकल्प नही है। इनकी सेवा को सर्वोपरि मानकर आगे बढ़े। इस दौरान उन्होंने स्मारिका का विमोचन किया इस अलंकरण समारोह की अध्यक्षता कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति मानसिंह परमार ने की। समारोह में विद्या भारती की क्षेत्रीय संगठन मंत्री भालचंद रावले, सरस्वती शिक्षण संस्थान के अध्यक्ष बद्रीनाथ केशरवानी,सचिव जुड़ावन सिंह ठाकुर,परीक्षा प्रकोष्ठ के संयोजक भानुप्रताप सोनी,गौरीशंकर कटकवार, संतोष निषाद आदि उपस्थित थे।