featured image

स्कूल शिक्षा मंत्री तथा भारत स्काउट-गाइड की छत्तीसगढ़ इकाई के राज्य अध्यक्ष श्री बृजमोहन अग्रवाल ने प्रदेश में स्काउट-गाइड की गतिविधियों को बढ़ावा देने लिए कार्य योजना बनाकर कार्य करने पर जोर दिया है। इसके लिए वार्षिक कैलेण्डर तैयार किया जाना चाहिए। श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश के स्कूलों में स्काउट-गाइड की प्रभावशाली उपस्थिति दर्ज होनी चाहिए। ज्यादा से ज्यादा बच्चों को संगठन से जोड़ा जाए ताकि स्काउट-गाइड के रचनात्मक कार्यों में भी छत्तीसगढ़ का नाम रोशन हो। श्री अग्रवाल आज यहां आयोजित भारत स्काउट-गाइड की छत्तीसगढ़ इकाई की राज्य कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में मुख्य राज्य आयुक्त श्री जी.स्वामी, राज्य आयुक्त श्री राजेश अग्रवाल सहित कार्यकारिणी के सदस्य उपस्थित थे।
स्कूल शिक्षा मंत्री ने कहा कि विभिन्न आपदाओं के समय स्काउट-गाइड के स्वयं सेवकों की मदद ली जाती है। यह समाज सेवा का कार्य है। छत्तीसगढ़ में भी स्काउट-गाइड के लिए और बेहतर वातावरण तैयार करने की जरूरत है। इसके लिए स्काउट-गाइड की गतिविधियों के माध्यम से अच्छा काम होना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य के निजी स्कूलों के बच्चों को भी इस संगठन में शामिल किया जाए। संगठन के आजीवन सदस्यों, कार्यकारिणी के सदस्यों तथा कर्मचारियों को सक्रियता के साथ संगठन को मजबूत करने के लिए कार्य करना चाहिए।
श्री अग्रवाल ने कहा स्काउट-गाइड के लिए बजट प्राप्त करने प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजने के निर्देश दिए। उन्होंने कार्यकारिणी के वर्तमान और पूर्व सदस्यों को आजीवन सदस्य बनाने के लिए निर्देशित किया। बैठक में बताया गया कि छत्तीसगढ़ इकाई के लिए 40 पदों का सेटअप स्वीकृत किया गया है। इन पदों को भरने के लिए समिति गठित कर दी गई है। अधिकारियों ने बताया कि बूढ़ापारा के इंडोर स्टेडियम के कमरों में स्काउट-गाइड का राज्य कार्यालय संचालित है। इसके लिए रायपुर नगर निगम से केवल मौखिक अनुमति मिली है। इसके लिए लिखित आदेश प्राप्त करने नगर निगम एम.आई.सी.की बैठक में अनुमोदन कराने प्रस्ताव भेजा जाना है। श्री अग्रवाल ने राज्य कार्यालय के लिए जमीन लेने जरूरी कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए। कार्यकारिणी की बैठक में निर्धारित एजेंडा के अनुसार अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। बैठक में राज्य मुख्य आयुक्त श्री जी.स्वामी और राज्य आयुक्त श्री राजेश अग्रवाल ने संगठन की गतिविधियों और उपलब्धियों की जानकारी दी। बैठक के बाद उत्तराखण्ड के विभिन्न धार्मिक पर्यटन स्थलों पर पिछले सप्ताह आयी प्राकृतिक विपदा में मारे गए लोगों को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गयी।