featured image

छत्तीसगढ़ प्रदेश अब पिछड़ा नही रहा.हमारा यह राज्य विकास के मामले में देश के अग्रणी राज्यों में गिना जा रहा है.यह तभी संभव हो सका जब प्रदेश की जनता का प्यार और विश्वास भारतीय जनता पार्टी को मिला.आज अपने कार्यों के दम पर गर्व के साथ सीना चौड़ा कर हम जनता के बीच जाकर यह कह सकते है की आपने जो भरोसा जताया है उस हम खरे उतरे है.और जहा की जनता का विश्वास जीत पाने में हम असफल हुए है वहा भी हमारी सरकार ने बगैर भेद-भाव के इतना विकास कराया है कि उन्हें अपने फैसले पर अफ़सोस हो रहा है. जनादेश को स्वीकार करते हुए विकासपथ पर सबको साथ लेकर चलना ही भारतीय जनता पार्टी की नीति और रीती है.यह बात प्रदेश के लोकनिर्माण ,शिक्षा एवं धमतरी जिले के प्रभारी मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने अपने तीन दिवसीय धमतरी जिले के प्रवास के दौरान कही.इस दौरान दर्जन भर से ज्यादा गाँव में का दौरा किया और आयोजित सभाओं में जिले के सैकड़ों ग्रामों से आये ग्रामीणों की मौजूदगी में  उन्होंने 50 करोड से  ज्यादा के  विकास कार्यों का लोकार्पण-भूमिपूजन किया और इतनी ही  राशि के विकासकार्यों की घोषणा भी की.

श्री अग्रवाल धमतरी जिले के ग्राम अकला डोंगरी,मोगरागहन,अरौद,विकासखंड नगरी के ग्राम गत्तासिल्ली,घटुला,सांकरा,कुम्हड़ा,विकासखंड मगरलोड के ग्राम सिंगपुर,विकासखंड कुरुद के अतंग,सिवनीकला,एवं भखारा नगर पंचायत में करोड़ों के विकासकार्यों की सौगात लेकर पहुंचे.यहा आयोजित लोकार्पण-भूमिपूजन समारोह में उन्होंने जन सभाओं को संबोधित किया.इस दौरान श्री अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश की बीजेपी सरकार गाँव,गरीब और किसानों की सच्ची हितैषी है.यही कारण है की शासन की सारी योजनाओं में उनका ध्यान प्रमुखता से रखा जाता है.

श्री अग्रवाल ने कहा कि आज गाँव-गाँव की सड़के प्रदेश के विकास की गाथा बयां कर रही है.9 साल पहले और आज में तुलना कर देखे.हमारी भाजपा सरकार ने अपने इस कार्यकाल में 20 हज़ार स्कूल खोले है ताकि शिक्षा से प्रदेश का कोई भी बच्चा वंचित न रहे .हजारों करोड खर्च कर स्कूल बनाये जा रहे है, सरकार ने अपने कार्यकाल में डेढ़ लाख शिक्षकों की भर्ती की है. दसवी तक मुफ्त किताब,आठवी तक मुफ्त स्कूल ड्रेस,गरीब स्कूली बच्चियों को मुफ्त सायकल,प्रायमरी बच्चों को स्कूल में भोजन कराया जा रहा है. हमारा मानना है कि हम तो विकास करेंगे ही पर यदि गाँव का बच्चा पढ़ लिखकर योग्य बनेगा तो वह भी प्रदेश के बेहतर विकास में सहभागी होगा और अपने व परिवार के भी बेहतर भविष्य का निर्माण करेगा.

 

हमारी सरकार ने माटीपुत्र किसानों का भी विशेष ध्यान रखा है.सदैव उनका सम्मान किया है. प्रति क्विंटल धान पर 270 रुपये बोनस प्रदान कर उन्हें आर्थिक लाभ प्रदान किया है.उनका एक-एक दाना धान हमने खरीदा.पूर्व की सरकार तो 16 प्रतिशत ब्याज पर  ऋण देती थी जिसके चलते यहाँ के किसान साहूकारों के चंगुल में फंसे हुए थे, उनका जीवन दुखमय था .पर आज छत्तीसगढ़ का किसान खुश है क्योकि सरकार उसे एक प्रतिशत ब्याज पर ऋण उपलब्ध करा रही है.उन्हें चौबीस घंटे बिजली मिल रही है.अब पम्प कनेक्शन के लिए वर्षों का इंतिजार नही करना पड़ता.

उन्होंने कहा कि प्रदेश के गरीबों को कम दरों 1-2 रुपये किलों में अनाज उपलब्ध कराकर हमने उनके भूख पर विजय पायी है ,यह जीत हमारे संतोष का बड़ा कारण है.गरीब की बेटी का ब्याह में भी सरकार 15 हज़ार रुपये का सहयोग प्रदान कर रही है.साथ ही स्मार्ट कार्ड योजना के तहत सभी को मुफ्त बेहतर इलाज की सुविधा मुहैया कराई जा रही है.

उन्होंने कहा कि विकासकार्यों के लिए पैसे की कोई कमी नही है.आमजनों के प्रति हमारे सरकार की नियत ठीक है इसलिए कमल फूल पर विराजित धन की देवी माँ लक्ष्मी का आशीर्वाद भाजपा सरकार के साथ है.जो काम आज़ादी के पचास सालों तक नहीं हुए हमने सिर्फ 9 वर्षों में कर दिखाया है.इस यात्रा में श्री अग्रवाल के साथ कांकेर सांसद सोहन पोटाई,जिला भाजपा अध्यक्ष निरंजन सिन्हा,पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर,पूर्व विधायक पिंकी शिवराज शाह, जिलाधीश  सहित सभी विभागों के  वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे.

 

नक्सल प्रभावित क्षेत्र में बृजमोहन ने गुजारी रात

 बृजमोहन अग्रवाल ने नक्सलवाद पर कहा कि नक्सलियों की कोई विचारधारा नही है.वे विकास विरोधी है.सुदूर जंगलों के गाँव-गाँव में सड़क हम बना रहे है क्योकि आदिवासियों भाई मुख्याधारा के संपर्क में रहे.उनका बेहतर इलाज हो इस हेतु अस्पताल ,उनके बच्चे अच्छी शिक्षा ले इसके लिए स्कूल खोले जा रहे है.पर नक्सली अस्पताल और स्कूल जैसे स्थानों में बम विस्फोट कर आखिर क्या साबित करना चाहते है? प्रदेश में भय मुक्त वातावरण बनाना सरकार का संकल्प है.और जो वारदात हुए है वह नक्सलियों की बेचैनी का प्रतीक है.अपनी इस यात्रा के दौरान श्री अग्रवाल नगरी के नक्सल प्रभावित क्षेत्र सघन दौरा किया. ग्राम डोकाल स्थित वन विभाग के विश्राम गृह में एक रात गुजारी.